2019 से पहले बीजेपी पूरी तरह राम का नाम जपने लगी है. दो दिन पहले ही अयोध्या में साधु-संतों के बीच राम मंदिर बनने का आश्वासन देने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बार की दीपावली भी भव्य तरीके से मनाने की तैयारी में हैं. इसके लिए योगी सरकार एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी का चयन करने की तैयारी में है. माना जा रहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अयोध्या में प्रभु श्रीराम पर इतना भव्य कार्यक्रम का आयोजन कर योगी सरकार मंदिर निर्माण की दिशा में सरकार की ओर से सकारात्मक पहल का संदेश देना चाह रही है.

मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा संदेश देने के लिए योगी सरकार इस बार दीपावली में बेहद भव्य तरीके अपनाने की योजना बना रही है. इसलिए सिंगापुर के सेंटोसा आइसलैंड में विंग्स ऑफ टाइम और क्रेन डांस वाटर शो की तर्ज पर ही अयोध्या में भी दीपावली के मौके पर श्रीराम और रामायण के सार को भव्य रूप से दर्शाने की तैयारी की जा रही है.

इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक यूपी सरकार इस बार 5 नवंबर को दीपावली के मौके पर पूरी अयोध्या को रामायण की थीम पर सजाया जाएगा. 5 नवंबर से तीन दिनों तक चलने वाले दीपोत्सव का आयोजन किया जाएगा. इसमें अयोध्या की हर गली-सड़क को मिट्टी के दीयों से सजाया जाएगा. इसके अलावा पूरे शहर में शोभा यात्रा निकाली जाएगी. राम कथा पार्क में राम दरबार और राज्याभिषेक का मंचन किया जाएगा. इस दौरान एलईडी लाइट से पूरा इलाका सजाया जाएगा.

अयोध्या में मौजूद हर ऐतिहासिक स्थल को दीपावली में रौशन किए जाने की तैयारी है. सरयू नदी के किनारे हजारों दीपक जलाए जाएंगे. इस खास मौके पर उत्तर कोरिया के किसी अधिकारी के बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहने की संभावना है.

गौरतलब है कि पिछले साल भी योगी सरकार ने दीपावली को भव्य तरीके से मनाया था. हालांकि उस समय पूरा आयोजन यूपी सरकार के पर्यटन मंत्रालय और स्थानीय प्रशासन ने मिलकर किया था. माना जा रहा कि इस बार दीपोत्सव का यह पर्व योगी सरकार बिना किसी व्यवधान के और भव्य तरीके से मनाना चाह रही है.