पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम के स्वदेश लौटने से पहले देश में सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है, लेकिन महज 6 घंटों के अंदर 2 बड़े बम धमाकों से पाकिस्‍तान दहल उठा जिसने वहां की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े कर दिए. दोनों धमाकों में अब तक 115 लोगों के मारे जाने की खबर है जिसमें एक पूर्व मुख्यमंत्री का भाई और उम्मीदवार भी शामिल है.

नवाज शरीफ के पाकिस्तान लौटने से चंद घटों पहले शुक्रवार को 2 बम धमाके हुए. दोपहर को हुए पहले बम धमाके में 4 लोग मारे गए जबकि कुछ देर बाद चुनाव प्रचार के दौरान बलुचिस्तान में धमाका हो गया जिसमें उम्मीदवार समेत 111 लोगों की मौत हो गई.

पहला धमाका वजीरीस्तान के बन्नू जिले में हुआ जिसमें 4 लोग मारे गए जबकि 32 घायल हो गए. घायलों में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के पूर्व मुख्‍यमंत्री और जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फज़ल (JUI-F) के नेता अकरम दुर्रानी भी शामिल हैं. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कुछ घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है.

धमाके से चंद मीटर की दूरी पर दुर्रानी, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के इमरान खिलाफ के खिलाफ चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे.

फिर कुछ ही देर बाद एक और बम धमाका बलुचिस्तान के मस्तुंग की चुनावी रैली में हुआ. बलुचिस्तान अवामी पार्टी के नेता नवाब सिराज रायसैनी की चुनावी रैली में हुए धमाके में 70 लोगों की मौत हो गई, जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए. मरने वालों में खुद उम्मीदवार नवाब सिराज रायसैनी भी शामिल हैं.

सिराज बलुचिस्तान के पूर्व मुख्यमंत्री नवाब असलम रायसैनी के छोटे भाई थे. सिराज के बेटे अकमल रायसैनी की भी मौत 2011 में एक बम धमाके में हो गई थी. अकमल 2011 में फुटबॉल मैच के दौरान हुए बम धमाके में मारा गया था, उस धमाके के दौरान सिराज खुद स्टेडियम में मौजूद थे, लेकिन वो बच गए थे.

बीती रात खुजदार में बलुचिस्तान अवामी पार्टी के चुनावी दफ्तर के पास हुए एक धमाके में 2 लोग घायल हो गए थे. बलुचिस्तान अवामी पार्टी का गठन इस साल मार्च में हुआ था.

इससे पहले 10 जुलाई को पाकिस्तान के पेशावर में एक चुनावी बैठक के दौरान भी आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें अवामी नेशनल पार्टी के नेता हारून सहित 14 लोगों की मौत हो गई थी. वहीं इस महीने की शुरुआत में खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के तख्तीखेल के पास चुनावी रैली में हुए विस्फोट के चलते एमएमए के उम्मीदवार समेत 7 लोग घायल हो गए थे.

भ्रष्टाचार के मामले में दोषी करार दिए गए पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ शुक्रवार शाम को पाकिस्तान लौट रहे हैं. लाहौर पहुंचने पर नवाज और उनकी बेटी मरियम को गिरफ्तार किया जा सकता है. नवाज की वापसी को देखते हुए पाकिस्‍तान में सुरक्षा व्‍यवस्‍था भी कड़ी की गई है हालांकि उनके पहुंचने से करीब 10 घंटों के अंदर 2 धमाके सुरक्षा पर बड़े सवाल खड़े करता है.

पाकिस्तान में 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव से पूर्व इस महीने में किसी राजनीतिक रैली में यह पांचवीं आतंकी घटना है.