भगवान राम ने रावण का वध किया था और इसीलिए दशहरा का त्‍योहार मनाया जाता है. लेकिन ये वो तथ्‍य है जिसे हम सब जानते हैं. लेकिन दशहरा के बारे में हम यहां कुछ ऐसे तथ्‍य बता रहे हैं, जिसे शायद ही आप जानते हों…

1. दशहरा संस्‍कृत शब्‍द दशा और हारा से बना है. जिसका सीधा अर्थ होता है सूर्य की हार. कहा जाता है कि अगर रावण का वध भगवान राम ने नहीं किया होता तो सूर्य हमेशा के लिए अस्‍त हो जाता.

2. दशहरा को विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता है. जिसका अर्थ होता है दसवें दिन का विजय. इसका महत्‍व इस रूप में भी होता कि मां दुर्गा ने दसवें दिन महिषासुर राक्षस का वध किया था.

3. महिषासुर असुरों को राजा था, जो भोले-भाले लोगों पर अत्‍याचार करता था. उसके अत्‍याचारों को देखकर भगवान ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश ने शक्‍त‍ि का निर्माण किया. महिषासुर और शक्‍ति के बीच 10 दिनों तक युद्ध हुआ और आखिरकार मां ने 10वें दिन विजय हासिल कर ली.

4. ऐसी मान्‍यता है कि नवरात्र‍ि में मां अपने मायके आती हैं और दसवें दिन उनकी विदाई होती है. यही वजह है कि लोग नवरात्र‍ि के दसवें दिन उन्‍हें पानी में विसर्जित करते हैं.

5. एक मान्‍यता यह भी है कि श्री राम ने रावण के दसों सिर का वध किया था, जिसे प्रतिकात्‍मक रूप से अपने अंदर की 10 बुराईयों को खत्‍म करने से जोड़कर देखा जाता है. पाप, काम, क्रोध, मोह, लोभ, घमंड, स्‍वार्थ, जलन, अहंकार, अमानवता और अन्‍याय वो दस बुराईयां हैं.

6. ऐसा कहा जाता है कि पहली बार दशहरा मैसूर के राजा के राज में 17वीं शताब्‍दी में मनाई गई थी,

7. यह त्‍योहार सिर्फ भारत ही नहीं बांग्‍लादेश और नेपाल में भी मनाया जाता है. मलेशिया में दशहरा पर राष्‍ट्रीय अवकाश होता.

8. दशहरा त्‍योहार को मौसम बदलने से जोड़कर भी देखा जाता है. दशहरा से सर्दियों की शुरुआत होती है. यह खरीफ की खेती का मौसम भी होता है. खरीफ की कटाई होती है और दिवाली के बाद रबी की बोआई शुरू होती है.

9. दशहरा भगवान राम और माता दुर्गा दोनों का महत्‍व दर्शाता है. रावण को हराने के लिए श्री राम ने मां दुर्गा की पूजा की थी और आर्शीवाद के रूप में मां ने रावण को मारने का रहस्‍य बताया था.

10. एक और मान्‍यता यह है कि दशहरा के दिन ही राजा अशोक ने बौद्ध धर्म अपनाया था. इसी दिन डॉ. अम्‍बेडकर ने भी बौद्ध धर्म अपनाया था.

News Source – aajtak.intoday