अलीगढ़
उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में हिंदू जागरण मंच ने हिंदू बहुल स्कूलों को अडवाइजरी पत्र जारी कर क्रिसमस मनाने पर चेतावनी दी है। पत्र के जरिए धमकी दी गई है कि बच्चों को इसके लिए मजबूर न करें। इस मामले में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने अनभिज्ञता जताई है।

हिंदू जागरण मंच के महानगर अध्यक्ष सोनू सविता ने हिंदू बहुल स्कूलों को एक पत्र भेजा। इस पत्र में लिखा गया है कि स्कूलों में बच्चों पर ईसाई धर्म के पर्व न थोपे जाएं और न ही उन्हें क्रिसमस के लिए मजबूर किया जाए। यदि उनकी सलाह को नहीं माना गया तो इसका विरोध होगा। इस संबंध में अभिभावक संघ के अध्यक्ष सौरभ का कहना है कि यदि अभिभावकों को इस पर कोई ऐतराज नहीं है तो कोई बात नहीं। हां, अगर अभिभावक इसका विरोध करते हैं तो संघ उनके साथ खड़ा होगा।

तहजीब की मिसाल हैं त्योहार
चर्च के फादर युसुफ दास कहते हैं कि सभी विद्यालयों में त्योहार जैसे दीपावली, होली, ईद और क्रिसमस आयोजित किए जाते हैं, जो हमारी तहजीब की मिसाल है।

‘सभी धर्मों का सम्मान जरूरी’
उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा, ‘इस बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है। सभी धर्मों का सम्मान हो इसके लिए सरकार की मंशा साफ है। लोग किसी भी धर्म के त्योहारों को मनाने के लिए स्वतंत्र हैं। सरकार इसमें कतई कोई दखल नहीं देगी।’

‘स्कूलों को दी जाएगी सिक्यॉरिटी ‘
वहीं इस पूरे मामले में अलीगढ़ के एसएसपी राजेश पांडेय का कहना है कि ऐसी कोई चेतावनी स्कूल तक नहीं पहुंची है। हम इस मामले की गंभीरता से जांच कर रहे हैं। ऐसी कोई अडवाइजरी नहीं जारी की गई है लेकिन इसके जरिए बच्चों में दहशत का माहौल बनाने की कोशिश की गई है। सभी स्कूल और कॉलेजों को सिक्यॉरिटी मुहैया कराई जाएगी। सभी लोग त्योहार मनाने के लिए स्वतंत्र हैं।

News Source _ Nav Bharat Times