महज़ 15 साल की उम्र में 327 गेंदों पर 1009 रन बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले प्रणव धनवाड़े को लेकर एक बुरी खबर आई है. अंतर स्कूल टूर्नामेंट में क्रिकेट इतिहास में चार अंकों का स्कोर बनाने वाले दुनिया के इकलौते बल्लेबाज रहे प्रणव ने डिप्रेशन की वजह से क्रिकेट छोड़ दिया है.

dhanwade

मुश्किल हालात और खराब फॉर्म का खामियाज़ क्रिकेट के खेल को एक होनहार क्रिकेटर को चुकाकर भुगतना पड़ रहा है. पिछले साल ही प्रणव की तुलना क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर तक से की जा चुकी थी. लेकिन वो आज अपने ही बुरी फॉर्म के शिकार हो गए हैं.

पिछले साल प्रणव की शानदार बल्लेबाजी के दम पर उन्हें मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन (एमसीए) ने 10 हजार प्रतिमाह की स्कॉलरशिप का ऐलान किया था. जिससे वो अपनी पढ़ाई और खेल को जारी रख सके लेकिन इसके बाद खराब फॉर्म के चलते प्रणव को दरकिनार कर दिया गया.

हालांकि इस बारे में प्रणव ने एक बार फिर से एमसीए से संपर्क साधने की कोशिश की तो एमसीए ये जवाब आया कि ‘जब प्रणव फिर से शानदार फॉर्म में होगा तो इसे(स्कॉलरशिप) जारी रखा जाएगा.’

प्रणव की खराब किस्मत और फॉर्म की वजह से उन्हें एआईआर इंडिया और दादर यूनियर ने भी अपने यहां नेट प्रेक्टिस से रोक दिया. जिसके बाद से प्रणव गहरे तनाव में चले गए और इस वजह से ही उन्होंने अब क्रिकेट छोड़ने का मन बना लिया है.

हालांकि अब भी प्रणव के कोच मोबिन शेख एक बार फिर से देश के इस होनहार खिलाड़ी को मैदान पर एकाग्र करने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं. मोबिन ने कहा कि ’16 साल के इस खिलाड़ी को वो लगातार मोटिवेट करने की कोशिश कर रहे हैं.’

प्रणव ने बीते साल ही नाबाद 1009 रन बनाकर अपनी केसी गांधी इंग्लिश स्कूल टीम को मुकाबला पारी और 1382 रनों से जिता दिया था. उन्होंने इस पारी में 59 छक्के और 129 चौके जमाए थे.