cricket

कर्नाटक ने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी टी-20 टूर्नामेंट के दक्षिण क्षेत्र के मैच में हैदराबाद पर विवादास्पद परिस्थितियों में दो रनों से जीत दर्ज की. विशाखापत्तनम के डॉ. वाईएस राजशेखर रेड्डी ACA-VDCA स्टेडियम में अंपायरों की गलती के कारण कर्नाटक के स्कोर में दो रन जोड़े गए और आखिर में हैदराबाद इसी अंतर से हार गया. इससे हैदराबाद के खिलाड़ी नाराज हो गए, क्योंकि उनका मानना था कि स्कोर में बाद में बदलाव करने से उनकी टीम को हार झेलनी पड़ी.

हैदराबाद के फील्डर का पांव बाउंड्री से छू गया

दूसरे ओवर की चौथी गेंद पर हैदराबाद के डीप मिडविकेट पर खडे़ फील्डर मेहदी हसन का पांव सीमा रेखा से छू गया था. अंपायर उल्हास गंधे ने करुण नायर को 4 रन देने के बजाय 2 रन दिए. अंपायर उल्हास गंधे और अभिजीत देशमुख ने रिव्यू के लिए खेल नहीं रोका, लेकिन हैदराबाद की पारी शुरू होने से पहले स्कोर में सुधार करके उसे 5 विकेट पर 205 रन कर दिया.

विनय कुमार और रायूडु की अंपायरों से बहस

हैदराबाद की पारी शुरू होने से पहले कर्नाटक के कप्तान विनय कुमार और हैदराबाद के कप्तान अंबति रायूडु के अंपायरों के साथ बहस भी हुई. रायूडु ने मैच समाप्त होने के बाद भी अंपायरों के सामने यह मसला रखा. रायूडु और उनकी टीम के अन्य साथी मैदान पर उतर गए. जिसके कारण आंध्र और केरल का मैच समय पर शुरू नहीं हो पाया. रायूडु ने कहा कि उन्होंने दूसरा मैच रोकने के बारे में नहीं सोचा था और वे केवल सुपर ओवर करवाने की मांग कर रहे थे.

हैदराबाद के कप्तान रायूडु ने ऐसा कहा-

बताया जाता है कि रायूडु ने कहा, ‘मुझे नियम पता है. अगर वह उसी समय फैसला बदल देते तो अच्छा होता. यहां तक कि अगर किसी को आउट दे दिया जाता है और वह पवेलियन लौट जाता है तो आप उसे वापस नहीं बुलाते. यहां तक अगर नोबाल सही नहीं दी गई, तो आप स्कोर में फेरबदल नहीं कर सकते.’उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि क्या हुआ, लेकिन हम 204 रन का लक्ष्य लेकर चल रहे थे. मैं यही कहना चाहता था. हम सुपर ओवर का इंतजार कर रहे थे, जो नहीं हुआ.’

रिपोर्टो के अनुसार कर्नाटक टीम के अधिकारी ने कहा कि खिलाड़ियों ने यह मसला तीसरे अंपायर के पास रखा जिन्होंने मैदानी अंपायर गंधे को इसके बारे में बताया. इस बीच बीसीसीआई ने कहा कि वह मैच रेफरी की रिपोर्ट मिलने के बाद आचार संहिता के अनुसार कार्रवाई करेगा.

बोर्ड ने किया ट्वीट-

बोर्ड ने ट्वीट करके कहा, ‘बीसीसीआई ने हैदराबाद और कर्नाटक के बीच के मैच को संज्ञान में लिया है. मैच रेफरी की रिपोर्ट का इंतजार है, जिसके बाद आईसीसी आचार संहिता के अनुसार कार्रवाई की जाएगी.’