भोपाल।प्रदेश में लगातार बदल रहे मौसम के चलते रविवार दोपहर 1.45 बजे तेज हवाओं के साथ ओलावृष्टि हुई। मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि इस बारिश से फसलों को भारी नुकसान होगा। 15-20 मिनट तक हुई बारिश और ओलावृष्टि से राजधानी भोपाल में सफेदी की चादर बिछ गई। ऐसा ही हाल, बैतूल, छिंदवाड़ा और सतना जिलों समेत प्रदेश के कई हिस्सों का रहा।

-भोपाल में बाईपास रोड, खजूरी रोड बजरंग चौराहा में ओला गिरने के बाद लगा कि जैसे कश्मीर में बर्फ जैसी चादर बिछ गई।

-जहां पर तेज आंधी के साथ हुई ओलावृष्टि हुई। इससे खिड़की और दरवाजों के कांच तक टूट गए। घरों में ओला की परतें जमा हो गईं।

-हालांकि 15 मिनट बाद ही धूप खिल गई। मौसम का मिजाज दो-तीन दिनों से बदला हुआ है। अचानक बादल छाए और ओलावृष्टि शुरू हो गई।

भोपाल समेत इन जिलों में हुई ओलावृष्टि

-रविवार को भोपाल के साथ ही बैतूल, सतना, छिंदवाड़ा में भी ओलावृष्टि हुई। बैतूल जिले के चिचोली इलाके में सुबह 9 बजे 5 मिनट तक ओलावृष्टि हुई। ये ओलावृष्टि फसलो को नुकसान पहुंचा सकती है।

-अचानक बादलों के आने के बाद तेज हवाओं के साथ ओले गिरने लगे। थोड़ी ही देर में चिचौली में जमीन पर सफेदी की चादर बिछ गई और लोग घर से बाहर निकलकर देखने लगे। कुछ बच्चे ओले हाथ में लेकर खेलने लगे। हालांकि मौसम बदलने से ठंडक फिर से बढ़ गई है।