9 स्कूली बच्चों की मौत :9 स्कूली बच्चों की मौत

पटना
बिहार के मुजफ्फरपुर में स्कूल परिसर में बेकाबू बोलेरो से कुचलकर 9 बच्चों की हुई मौत के मामले में पुलिस ने आरोपी वाहन मालिक और बीजेपी नेता मनोज बैठा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। इसके साथ ही पुलिस अब मनोज की गिरफ्तारी में जुट गई है। मनोज फिलहाल फरार हैं और उनको गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की छापेमारी जारी है।

बता दें कि बीते शनिवार को मुजफ्फरपुर के मीनापुर थाना क्षेत्र में धर्मपुर उत्क्रमित मध्य विद्यालय के सामने छुट्टी के बाद घर जा रहे छात्र एक तेज रफ्तार बोलेरो की चपेट में आ गए थे। इनमें 9 छात्रों की मौत हो गई थी जबकि 24 छात्र घायल हुए थे। मीनापुर के थाना प्रभारी सोना प्रसाद सिंह ने सोमवार को बताया कि अबतक जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि जब यह हादसा हुआ था, तब बोलेरो खुद बीजेपी नेता मनोज बैठा चला रहे थे।

सिंह ने बताया कि ग्रामीण मोहम्मद अंसारी और अन्य के बयान पर मीनापुर थाने में मनोज बैठा के खिलाफ गैरइरादतन हत्या के आरोप में एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने बताया कि आरोपी की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।

बता दें कि बीजेपी से जुड़े मनोज महादलित प्रकोष्ठ के सीतामढ़ी जिलास्तरीय नेता हैं। इस हादसे में बीजेपी नेता का नाम आने के बाद बिहार की राजनीति गरमा गई है। बिहार में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने सरकार पर सवाल उठाते हुए सोमवार को ट्वीट किया और कहा था कि नौ मासूम बच्चों को कुचलने वाले हत्यारे बीजेपी नेता को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के सीधे संरक्षण के चलते अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

‘आरोपी को बचाने का सवाल ही नहीं’
इधर, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय सोमवार को इस हादसे में शिकार बच्चों से मिलने मुजफ्फरपुर अस्पताल पहुंचे। इस बीच बीजेपी के वरिष्ठ नेता और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह नीतीश कुमार की सरकार है, इसमें कोई भी अपराधी बच नहीं पाएगा। तेजस्वी के आरोपों को खारिज करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि बीजेपी या आरजेडी से संबंध होने के चलते किसी आरोपी को बचाए जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता है।

‘हमारी सरकार न फंसाती है, न बचाती है’
सुशील मोदी ने कहा, ‘मैंने मुजफ्फरपुर एसपी से इस मामले को लेकर बातचीत की है। आरोपी मनोज बैठा पर कड़ी से कड़ी कारवाई होनी चाहिए। मासूमों की जान लेनेवालों पर कोई रहम नहीं होनी चाहिए।’ वहीं जेडीयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने भी दावा किया कि आरोपी पाताल में भी होगा तो उसे पकड़कर जेल भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार विधायक और सांसद को तो छोड़ती ही नहीं है, यह तो एक पदधारी हैं। नीरज ने कहा कि जो भी होगा वह कानून के मुताबिक होगा। हमारी सरकार न किसी को फंसाती है और न ही बचाती है।