दुबई/मुंबई.    श्रीदेवी की पार्थिव देह को मंगलवार रात दुबई से मुंबई लाया गया।एयरपोर्ट से सीधे लोखंडवाला स्थित उनके घर ग्रीन एकर्स ले जाया जाएगा। अंतिम संस्कार कल दोपहर 3:30 बजे होगा। इससे पहले दुबई पुलिस ने इंडियन कॉन्स्युलेट और उनके परिवार को मंगलवार दोपहर क्लीयरेंस लेटर सौंपने के बाद केस को बंद करने की बात कही। इसके साथ पुलिस ने बोनी कपूर को भी इस मामले में क्लीन चिट दे दी। फोरेंसिक रिपोर्ट में सोमवार को खुलासा हुआ था कि श्रीदेवी की मौत कार्डिएक अरेस्ट से नहीं, बल्कि बाथटब में डूबने से हुई। बता दें, श्रीदेवी की मौत 24 फरवरी को दुबई के होटल में रात को करीब 11.30 बजे हुई थी।

 

 

श्रीदेवी की पार्थिव देह रात 9:30 बजे मुंबई पहुंची

– श्रीदेवी की पार्थिव देह को अनिल अंबानी के चार्टर्ड प्लेन से मंगलवार रात 9:30 बजे मुंबई एयरपोर्ट लाया गया। प्लेन में बोनी कपूर, संजय कपूर और अर्जुन कपूर समेत 11 लोग मौजूद थे। बता दें कि अर्जुन कपूर मंगलवार सुबह ही दुबई गए थे।

– एयरपोर्ट अनिल कपूर, अनिल अंबानी समेत कई करीबी लोग देखे गए।

 

कब होगा अंतिम संस्कार

– श्रीदेवी के परिवार की तरफ से मंगलवार को जारी बयान में कहा गया- “इस भावुक पल में परिवार का साथ देने के लिए मीडिया का धन्यवाद। श्रीदेवी का अंतिम संस्कार 3:30 बजे विले पार्ले के श्मशान घाट में किया जाएगा। दोपहर 2 बजे अंतिम यात्रा निकाली जाएगी।”

– “इससे पहले अंतिम दर्शन के लिए उनके पार्थिव शरीर को सेलिब्रेशन स्पोर्ट्स क्लब में सुबह 9:30 बजे से 12:30 बजे तक रखा जाएगा।” सेलिब्रेशन स्पोर्ट्स क्लब श्रीदेवी के घर से महज 100 मीटर की दूरी पर है।

 

श्रीदेवी की मौत का केस बंद, बोनी कपूर को क्लीन चिट 

– दुबई प्रशासन से क्लीयरेंस मिलने के बाद श्रीदेवी की बॉडी को लेप किया गया। इस प्रॉसेस में करीब 2 घंटे लगे।

– इससे पहले दुबई मीडिया ऑफिस ने ट्वीट कर बताया, “पब्लिक प्रॉसिक्यूशन ने कहा कि सारी जांच पूरी कर ली गई है। फोरेसिंक रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीदेवी की मौत दुर्घटनावश डूबने के कारण हुई। लिहाजा उनके केस को बंद किया जाता है।”

– उधर, दुबई पुलिस ने बोनी कपूर को इस मामले में क्लीन चिट दे दी है। पुलिस का कहना है कि इस केस में ऐसा कुछ नहीं मिला जिस पर संदेश किया जा सके।

 

अब तक क्या हुआ? 

 25 फरवरी को जब श्रीदेवी की मौत की खबर आई थी, तब कहा गया था कि मौत कॉर्डिएक अरेस्ट से हुई। इसके बाद सोमवार फोरेंसिक रिपोर्ट में मौत की वजह ‘एक्सीडेंटल ड्राउनिंग’ यानी ‘दुर्घटनावश डूबना’ बताया गया।

– कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि श्रीदेवी के खून में अल्कोहल के अंश भी मिले। इसके बाद अनुमान लगाया गया कि शराब के नशे में श्रीदेवी अपना संतुलन खोकर बाथटब में गिर गईं। इसके बाद डूबने से उनकी मौत हो गई। खलीज टाइम्स ने रविवार रात को भी अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि श्रीदेवी की बॉडी पानी से भरे टब में पाई गई।

– फोरेंसिक रिपोर्ट सामने आने के बाद पुलिस ने यह मामला आगे की कार्रवाई के लिए पब्लिक प्रॉस्क्यूटर को सौंप दिया। इसके बात सरकारी वकील ने 22 घंटे की कानूनी औपचारिकाएं पूरी करने के बाद मंगलवार करीब ढाई बजे श्रीदेवी की बॉडी को ले जाने की इजाजत दी।

 

इन 2 सवालों के जवाब अब भी नहीं मिले 
1. जब फॉरेसिंक रिपोर्ट आई तब शरीर पर चोट के निशान के बारे में कोई बात नहीं की गई। तो ऐसा क्या हुआ कि डेढ़ फीट गहरे बाथटब में गिरकर श्रीदेवी एक बार संभल भी न सकीं?
2. फॉरेंसिक रिपोर्ट की जो कॉपी सामने आई है उसमें दुर्घटनावश डूबना लिखा है। यह कैसे पता चला कि दुर्घटना से डूबी हैं? डुबोया भी तो जा सकता है?

 

कब हुई थी मौत?

– श्रीदेवी की मौत शनिवार रात करीब 11.30 बजे जुमैरा एमिरेट्स टॉवर होटल के अपने रूम नंबर 2201 में हुई थी। श्रीदेवी अपने पति बोनी कपूर और छोटी बेटी खुशी के साथ भांजे मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने दुबई गई थीं।

 

शनिवार शाम दुबई के होटल में क्या हुआ?

– परिवार के एक करीबी के हवाले से खलीज टाइम्स ने बताया था कि बोनी कपूर शादी में शामिल होकर मुंबई लौट गए थे। 24 फरवरी को दोबारा दुबई लौटे और वे शाम करीब 5.30 बजे जुमैरा एमिरेट्स टॉवर होटल गए। यहां ही श्रीदेवी रुकी हुई थीं। बोनी श्रीदेवी को सरप्राइज डिनर पर ले जाने वाले थे। बोनी ने श्रीदेवी को जगाया और दोनों ने करीब 15 मिनट बात की। इसके बाद श्रीदेवी वॉशरूम गईं। जब वे 15 मिनट तक नहीं लौटीं तो बोनी ने बाथरूम का दरवाजा खटखटाया।”

– “अंदर से कोई रिस्पॉन्स न मिलने पर उन्होंने धक्का देकर दरवाजा खोला। बोनी ने देखा कि श्रीदेवी अचेत हालत में बाथटब में गिरी हुई थीं। बोनी ने उन्हें होश में लाने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे। इसके बाद उन्होंने अपने दोस्त को फोन किया। उन्होंने करीब 9 बजे पुलिस को जानकारी दी।”

–  बाथरूम में बेहोश होकर गिरने के बाद उन्हें दुबई के रशीद हॉस्पिटल ले लाया गया। जब श्रीदेवी को इलाज के लिए हॉस्पिटल ले लाया गया, उससे पहले ही उनका निधन हो चुका था।