पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह ने अपने पिता और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की यात्रा की तुलना की है।

जयवर्धन ने आरोप लगाए हैं कि सरकार ने इस यात्रा के माध्यम से करोड़ों रुपये खर्च कर दिए। साथ ही यह सलाह भी दी है कि उनके पिता से सीखे कि यात्रा कैसे की जाती है।

दरअसल बीते वर्ष मध्यप्रदेश में सरकार की ओर से नर्मदा सेवा यात्रा निकाली थी। छह महीने चली इस यात्रा में देश-विदेश के कई दिग्गज लोगों ने शिरकत की थी।

इस यात्रा को लेकर प्रदेशभर में लाखों रुपये के होर्डिग्स लगाए गए थे। इस यात्रा में सरकार ने करीब 1800 करोड़ खर्च किए थे। इसका समापन पीएम मोदी ने किया था।

वहीं दूसरी तरफ पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भी बीते साल से नर्मदा परिक्रमा यात्रा शुरु की है। उनकी यह 3300 किमी की यह यात्रा छह महिने तक चलेगी।
इसी के चलते शुक्रवार को विधानसभा में मीडिया से चर्चा करते हुए दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह ने शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला। जयवर्धन ने कहा कि नर्मदा यात्रा पर सरकार ने करोडों रुपए बर्बाद किए।

नर्मदा सेवा यात्रा पर सरकार ने फिजूलखर्ची की। अकेले विज्ञापन पर खर्च 21 करोड़ रुपये खर्च कर दिए। शिवराज् सिंह ने सेवा यात्रा पर खर्च 1800 करोड़ रुपये खर्च किए। जब इन सब पर सवाल किए जाते हैं तो जवाबों में सरकार भ्रमित करती है। कभी भी ढंग से आकंड़े नही बताती।

मेरे पिताजी से सीखें…
वहीं दिग्विजय की यात्रा से सबक लेने की बात कहते हुए जयवर्धन ने कहा कि मेरे पिताजी की यात्रा से सीखें। रात में जहां जगह मिलती है रुक जाते हैं ,गांव वाले जो खिलाते हैं, वहीं खाते हैं ।

ज्ञात हो कि “नमामि देवि नर्मदे” नर्मदा सेवा यात्रा मां नर्मदा नदी के उदगम स्थल अमरकंटक से दिनांक 11 दिसम्बर, 2016 से प्रारंभ होकर अलीराजपुर के सोण्डवा से वापस होते हुये अमरकंटक में 15 मई, 2017 को 148 दिवसीय यात्रा का समापन हुआ था।

इस यात्रा दक्षिणी तट पर 1831 किलोमीटर एवं उत्त‍री तट 1513 किलो मीटर की रही। यह यात्रा कुल 3344 किलो मीटर की रही। वहीं दिग्विजय सिंह की नर्मदा परिक्रमा यात्रा नरसिंहपुर जिले के बरमान घाट से 30 सितंबर 2017 को शुरू हुई जो अगले छह महीने तक चलेगी। इस दौरान दिग्विजय ने गुजरात सहित कई क्षेत्रों की पैदल यात्रा की।