कावेरी जल विवादकावेरी जल विवाद

आईपीएल 2018. चेन्नई में पहला मैच खेला जा रहा है. स्टैंड्स काफ़ी खाली हैं. मैदान में कंस्ट्रक्शन चल रहा है. ये चेन्नई में खेला जा रहा पहला मैच है. यहां एक और मसला चल रहा है. ये मसला चेन्नई और कलकत्ता के बीच नहीं बल्कि तमिलनाडु और कर्नाटक के बीच चल रहा है. कावेरी जल विवाद. ऐसा कहा  भी जा रहा था कि इस विवाद के चलते उठे विरोध की वजह से इस मैदान में मैच नहीं हो पायेगा. लेकिन मैच चालू हुआ. इस विवाद के बारे में संक्षेप में बताया जाए तो ये पढ़िए: कावेरी जल विवाद – तमिलनाडु और कर्नाटक के बीच न जाने कबसे पानी का विवाद चल रहा है. पिछले साल SC ने 6 दिसंबर को एक फ़ैसला दिया था जिससे तमिलनाडु के लोग नाराज़ हैं. उनका कहना है कि उनका इस पानी पर ज़्यादा हक़ है जबकि ज़्यादा पानी तो कर्नाटक को दिया गया है.

मैदान के बाहर, मैच शुरू होने से पहले काफ़ी हो हल्ला हो रहा है. चूंकि भारत एक विरोध प्रदर्शन प्रधान देशा है, वहां भी प्रदर्शन चल रहा था. लेकिन मैच को शांतिपूर्वक शुरू करवाया गया.

मैच में विरोध करने वालों ने टांग डाल दी. वो बदतमीज़ी पर उतर आए. मैच शुरू हुए आधा घंटा भी नहीं हुआ था कि किसी ने मैदान में जूता दे मारा. जूता रवीन्द्र जडेजा के पास जाकर गिरा. इसके बाद एक-दो जूते और फेंके गए जिसमें से एक साउथ अफ़्रीकी प्लेयर फ़ाफ डु प्लेसी को जाकर लगा. वो मैच में खेल भी नहीं रहे थे. चोटिल चल रहे हैं. फिट नहीं हैं. खासे नाराज़ दिखे. उन्होंने तुरंत ही लोगों को बताया. पुलिस हरकत में आई और दर्शकों में से 2 लोगों को गिरफ़्तार किया. इसके बाद 3 और लोग धराये गए जो वहां खड़े कावेरी जल विवाद से जुड़े नारे लगा रहे थे.